सुविचार

आदमी के तीन चरित्र होते हैं

चरित्र छवि प्रतिष्ठा पर सुविचार, स्टेटस, अनमोल विचार

हर आदमी के तीन चरित्र होते हैं;
पहला जो वह दिखाता है,
दूसरा जो उसके पास है, और
तीसरा जो वह सोचता है कि उसके पास है। 

मनुष्य का असली चरित्र
तब सामने आता है,
जब वो नशे में होता है।
फिर नशा चाहे धन का हो,
पद का हो, रूप का हो या शराब का।

चरित्र छवि पर सुविचार- व्यक्तित्व एवं किरदार स्टेटस

हम जिस चेहरे के साथ
जन्म लेते हैं
वो हमारे बस में नहीं होता।
मगर जिस चरित्र,
व्यक्तित्व एवं किरदार के साथ
हम इस संसार से विदा लेते हैं,
उस के लिये हम ख़ुद ज़िम्मेदार होते हैं ।

पढ़ना एक गुना
चिंतन दो गुना और
आचरण सौ गुना के बराबर होता है ।

चरित्र निर्माण के तीन आधार स्तम्भ है, 
अधिक निरीक्षण करना, 
अधिक अनुभव करना  एवं अधिक अध्ययन करना ।

चरित्र छवि पर सुविचार, प्रतिष्ठा पर अनमोल वचन

अपनी प्रतिष्ठा का बहुत अच्छे से ख्याल रखें
क्योंकि इसकी उम्र आपकी आयु से बहुत अधिक है ।

अपने किरदार की हिफाजत जान से बढ़कर कीजिए
क्योंकि इसे जिंदगी के बाद भी याद किया जाता है ।

हुनर होगा तो दुनिया खुद कदर करेगी,
एड़ियाँ उठाने से किरदार ऊँचा नहीं होता ।

आचरण एक वृक्ष है,
और प्रतिष्ठा यश सम्मान उसकी छाया
लेकिन विडंबना यह है कि,
वृक्ष का ध्यान बहुत कम लोग रखते हैं
और छाया सबको चाहिए ।

अच्छे किरदार,
अच्छी सोच वाले लोग,
हमेशा साथ रहते हैं ।
दिलों में भी, लफ्ज़ों में भी
और दुआओं में भी ।

चाय और चरित्र जब भी गिरते हैं,
गहरा दाग छोड़ते हैं ।

जीवन में कुछ संबंध ऐसे होते हैं
जो किसी पद प्रतिष्ठा के मोहताज नहीं होते…!
वे स्नेह और विश्वास की बुनियाद पर टिके होते हैं ।

चरित्र छवि पर सुविचार और पढ़ें –

चढ़ता है नज़रों में शख्स बस अपने किरदार से

बड़ा आदमी वो है

Show More

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button