Home / आज का विचार / मुसीबत और ख़ुशी
musibat aur khushi

मुसीबत और ख़ुशी

मुसीबत और खुशी
बिना किसी अपाईन्टमेन्ट के आती हैं।
इसलिये अपने आपको तैयार रखो कि
मुसीबत के समय होश
और खुशी के समय जोश कायम रहे।

मांगी हुई खुशियों से,
किसका भला होता है,
किस्मत में जो लिखा होता है,
उतना ही अदा होता है,
न डर रे मन दुनिया से,
यहाँ किसी के चाहने से,
नहीं किसी का बुरा होता है,
मिलता है वही,
जो हमने बोया होता है ।