सुविचार

किसी को शिकायत न थी

शिकायत पर सुविचार शायरी

औरों के लिए जीते थे,
किसी को कोई शिकायत न थी।
अपने लिए जीने का क्या सोचा,
सारा ज़माना दुश्मन हो गया ।

शिकायत पर सुविचार शायरी

शिकायतों का कोई अंत नहीं साहेब,
पत्थर कहते हैं कि
पानी की मार से टूट रहे हैं हम
और पानी को शिकायत है कि
पत्थर हमें खुलकर बहने भी नहीं देते ।

शिकायत करके
समस्याओं से बचा नहीं जा सकता है
किन्तु जिम्मेदारी उठाकर समस्याओं को
कम जरुर किया जा सकता है ।

शिकायत पर सुविचार शायरी

यदि आपको किसी एक से शिकायत है;
तो उस से बात कीजिये,
यदि आपको अधिकतर लोगों से शिकायत है;
तो खुद से बात कीजिये ।

शिकवे तो सभी को हैं
जिन्दगी से साहब,
पर जो मौज से जीना जानते हैं
वो शिकायत नहीं करते । 

जो दिल में शिकवे कम 
और जुबान पर शिकायतें कम रखते हैं,
वही लोग हर रिश्ता निभाने का दम रखते हैं।

अब शिकायतें तुम से नहीं
मुझे खुद से हैं,
माना के सारे झूठ तेरे थें,
लेकिन उन पर यकीन तो मेरा था ।

ईश्वर से शिकायत क्यों है..?
उन्होने पेट भरने की जिम्मेदारी ली है
पेटियाँ भरने की नहीं ।

Life Inspirational Motivational Quotes in Hindi with Images

मुट्ठी भर शिकायतों से;
दरारें नहीं पड़तीं
ग़र रिश्तों की बनावट में
झूठ न हो ।

ये न पूछना कि,
ज़िंदगी खुशी कब देती है;
क्योंकि शिकायत तो;
उन्हें भी है,
जिन्हें ज़िंदगी;
सब कुछ देती है ।

शिकायत पर सुविचार शायरी

ज़िंदगी की आधी शिकायतें;
ऐसे ही दूर हो जाएँ;
अगर लोग एक दूसरे के बारे में;
बोलने की जगह;
एक दूसरे से बोलना सीख जाएँ ।

जिंदगी को लेकर
हमारी शिकायतें जितनी कम
होती जाएँगी,
हमारा जीवन उतना ही बेहतर
बनता जाएगा ।

तक़दीर के लिखे पर
कभी शिकवा न कर
तू अभी इतना समझदार नहीं हुआ है कि
रब के इरादे समझ सके।

निर्माण करने वाला शिकायत नहीं कर सकता और शिकायत करने वाला कभी निर्माण नहीं कर सकता है ।

शिकायत पर सुविचार शायरी के लिए और पोस्ट देखें –

परिवार से बड़ा कोई धन नहीं

Show More
Back to top button
Close