अनमोल वचन

सच का नकाब

सच का कोई दुश्मन नहीं पर उसे दुश्मन मिल जाते हैं ।

हर कोई मिलता है यहाँ,
पहन के सच का नकाब,
कैसे पहचाने कोई,
कौन है अच्छा कौन खराब ।

कलयुग है साहब,
यहाँ झूठे को स्वीकारा जाता है;
और सच्चे का शिकार किया जाता है ।

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker