Home / सुविचार / सच और झूठ
sach aur jhooth

सच और झूठ

जब तक सच जूते पहन रहा होता है
तब तक
एक झूठ आधी दुनिया का सफ़र तय कर सकता है ।

सच को तमीज नहीं बात करने की,
झूठ को देखो कितना मीठा बोलता है ।

झूठ इसलिए बिक जाता है कि,
क्योंकि;
सच को खरीदने की सबकी औकात नहीं होती है ।

कलयुग है साहब,
यहाँ झूठे को स्वीकारा जाता है;
और सच्चे का शिकार किया जाता है ।

सत्य की भूख सभी को लगती है,
लेकिन जब सत्य परोसा जाता है,
तो बहुत कम लोगों को;
इसका स्वाद अच्छा लगता है ।

सत्य की राह पर चलने का सबसे बड़ा मजा ये होता है कि आपको भीड़ नही मिलती।
इसलिए आनंद लीजिये शातिपूर्ण मार्ग का क्योंकि इस राह पर कोई ट्राफिक नही।

दुनिया के हर इंसान को;
नफरत है झूठ से,
मैं परेशान हूँ ये सोच कर;
फिर ये झूठ बोलता कौन है ।




झूठ बोलना पहली बार
आसान हो सकता है, पर बाद में परेशानी देता है,
सच बोलना पहली बार कठिन होता है;
पर बाद में सुकून और आराम देता है ।

झूठ का भी
अजीब जायका है;
स्वयं बोलो तो
मीठा लगता है और;
कोई दूसरा बोले तो
कड़वा लगता है ।

झूठ की रफ़्तार भले ही तेज हो
पर सच आगे निकल जाता है ।

सच दो टूक में पर झूठ घुमा फिर कर अपनी बात करता है ।

सच उथले में नहीं बल्कि काई से ढके गहरे तालाब में रहता है ।

सच की डोर भले लम्बी हो पर उसे कोई तोड़ नहीं सकता है ।

झूठ की उम्र छोटी पर जबान लम्बी होती है ।

एक झूठ छिपाने दस झूठ का सहारा लेना पड़ता है ।

सच और गुलाब सदैव काँटों से घिरे रहते हैं ।

झूठ से भरा जहाज मंझधार में डूबता है ।

सच का कोई दुश्मन नहीं पर उसे दुश्मन मिल जाते हैं ।

सत्य परास्त तो हो सकता है पर कभी पराजित नहीं होता है ।

झूठ बोलने पर झूठ याद रखने होते हैं जबकि सच बोलने पर कोई बात याद नहीं रखनी पड़ती है ।

सच वह दौलत है जिसे पहले खर्च करो और ज़िन्दगी भर आनंद उठाओ और झूठ वह क़र्ज़ है जिससे क्षणिक सुख पाओ और ज़िन्दगी भर चुकाते रहो ।