सुविचार

आदमी के शब्द

आदमी के शब्द नहीं
वक़्त बोलता है ।

चढते सूरज के
पुजारी तो लाखों हैं
डूबते वक़्त हमने
सूरज को भी तन्हा देखा है।

Tags
Show More
Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker