Home / सुविचार / प्रयासों का अपना अलग मज़ा है
प्रयासों का अलग मज़ा है - Good Morning images

प्रयासों का अपना अलग मज़ा है

नतीजों की
परवाह नहीं मुझे;
प्रयासों का
अपना अलग मज़ा है ।


कोयल अपनी भाषा बोलती है,
इसलिये आज़ाद रहती है;
किंतु तोता दूसरे की भाषा बोलता है,
इसलिए पिंजरे में जीवन भर गुलाम रहता है ।
अपनी भाषा, अपने विचार और;
अपने आप पर विश्वास करें ।



सुप्रभात Hindi SMS
हजारों उलझनें राहों में,
और कोशिशें बेहिसाब;
इसी का नाम है ज़िन्दगी,
चलते रहिये जनाब ।

Suprabhat Good Morning Photo

ये क्या सोचेंगे ?
वो क्या सोचेंगे ?
दुनिया क्या सोचेगी ?
इससे ऊपर उठकर कुछ सोच,
जिन्दगी सुकून का
दूसरा नाम हो जायेगी ।

HD Good Morning Images
दुनिया विरोध करे तो तुम
डरो मत,
क्योंकि जिस पेड़ पर फल लगते हैं,
दुनिया उसे ही पत्थर मारती है ।



सुप्रभात सुविचार - Good Morning
वृक्ष कभी इस बात पर व्यथित नहीं होता कि
उसने कितने पुष्प खो दिए;
वह सदैव नए फूलों के सृजन में व्यस्त रहता है।
जीवन में कितना कुछ खो गया,
इस पीड़ा को भूल कर, क्या नया कर सकते हैं,
इसी में जीवन की सार्थकता है ।

good morning
जो इन्सान धीरज रख सकता है;
वह अपनी इच्छानुसार;
सब कुछ पा सकता है ।
जहाँ प्रयत्नों की ऊंचाई;
अधिक होती है,
वहाँ नसीबों को भी झुकना पड़ता है ।

जो सफर की
शुरुआत करते हैं,
वे मंजिल भी पा लेते हैं.
बस,
एक बार चलने का
हौसला रखना जरुरी है.
क्योंकि,
अच्छे इंसानों का तो
रास्ते भी इन्तजार करते हैं।

मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नही हूं मै
मंजिल से जरा कह दो अभी पहुंचा नही हूं मै,
कदमो को बांध न पायेगी मुसीबत की जंजीरें
रास्तों से कह दो अभी भटका नही हूं मै,
सब्र का बांध टूटेगा तो फना करके रख दूंगा
दुश्मनो से कह दो अभी गरजा नही हूं मै
दिल मे छुपा के रखी है लड़कपन की चाहतें
दोस्तों से कह दो अभी बदला नही हूं मै,
साथ चलता है दुवाओं का काफिला
किस्मत से कह दो अभी तनहा नही हूं मै !!

suprabhat - good morning
माला की तारीफ़ तो करते हैं सब,
क्योंकि मोती सबको दिखाई देते हैं,
काबिले तारीफ़ धागा है जनाब
जिसने सब को जोड़ रखा है ।

हाथों से अपनी किस्मत की लकीर बना लो,
हर मौके को तुम अपनी तकदीर बना लो,
चलो माना कि ज़िंदगी इतनी आसान नहीं,
पर तुम राँझा बन अपनी मंज़िल को हीर बना लो।

मैं बिखर कर हर बार टूट जाता हूँ,
जितना भी टूटूँ,
फिर खुद ही उठ जाता हूँ ।
ये कैसा जूनून है मुझमें,
गिरकर सँभलने का,
खुद को मात देकर,
खुद से ही जीत जाता हूँ ।