सुविचार

इन्सान की समझ

इंसान की समझ सिर्फ इतनी है
जानवर कहो तो नाराज हो जाती है
और
शेर कहो तो खुश हो जाती है।

इंसान न कुछ हँस कर सीखता है

इंसान न कुछ हँसकर सीखता है,
न कुछ रोकर सीखता है,
जब भी कभी अलग सीखता है तो,
या तो किसी का होकर सीखता है,
या किसी को खोकर सीखता है ।

इंसान की समझ - शाम सूरज को

शाम सूरज को ढलना सिखाती है;
शमा परवाने को जलना सिखाती है;
गिरने वालो को तकलीफ़ तो होती है;
पर ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है।

अच्छे विकल्प देने पर भी लोग;
प्रायः नहीं बदलते,
लोग प्रायः तभी बदलते हैं;
जब उनके पास कोई विकल्प नहीं होता ।

सभी कुछ तो हो रहा है
इस तरक्की के जमाने में
मगर यह क्या गज़ब है
आदमी इंसान नहीं होता ।

डूबता है तो पानी को दोष देता है

डूबता है तो पानी को दोष देता है;
गिरता है तो पत्थर को दोष देता है;
इंसान भी बड़ा अजीब है;
कुछ नहीं कर पाता तो किस्मत को दोष देता है।

किसी इंसान की आदत देखनी हो तो उसे इज्जत दो।
किसी इंसान की फितरत देखनी हो तो उसे आजादी दो।
किसी इंसान की नीयत देखनी हो तो उसे कर्ज दो।
किसी इंसान के गुण देखने हो तो उस के साथ खाना खाओ।
किसी इंसान का सब्र देखना हो तो उसे हिदायत दे कर देख लो।
किसी इंसान की अच्छाई देखनी हो तो उस से सलाह ले लो।

Tags
Show More
Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker to visit the site.