Home / प्रेरणादायक विचार / परिस्थितियों से निपटना
samasya tabhi banti hai - परिस्थितियों से

परिस्थितियों से निपटना

परिस्थितियों से हारें नहीं;
जमकर मुक़ाबला करें,
क्योंकि तेजस्वी सूर्य को भी;
अपने उदयकाल में अंधेरे से;
लड़कर उसे भगाना होता है,
तभी वह प्रखर हो पाता है ।

नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती…
जान तभी जाती है जबकि तैरना नहीं आता…
परिस्थितियाँ कभी समस्या नहीं बनती….
समस्या तभी बनती है
जब हमें परिस्थितियों से निपटना नहीं आता।

Nadi Mein Girne Se Kisi Ki Jaan Nahin Jaati
Jaan Tabhi Jaati Hai Jabki Tairna Nahin Aata
Paristhitiyan Kabhi Samasya Nahin Banti
Samasya Tabhi Banti Hai
Jab Humein paristhitiyon Se
Nipatna Nahin Aata.

यदि आपके सामने कोई ऐसे परिस्थिति आती है
जो आपको लगे कि वह आपके फेवर में नहीं है तो
कोशिश करो कि उस परिस्थिति के साथ सामंजस्य बैठा सको ।
हमेशा परिस्थितियाँ  आपके अनुकूल नहीं होती है।
इसलिए आपको कभी-कभी विपरीत परिस्थितियों में भी जीना पड़ता है।
आपको अगर ज़्यादा समस्या आ रही है तो आप
थोड़े समय के लिए खुद को अनचाही परिस्थिति से खुद को निकाल सकते है।
आप कही घूमने जा सकते है या कुछ ऐसा कार्य कर सकते है जो आपको ख़ुशी देता हो।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.