सुविचार

किसी को शिकायत न थी

औरों के लिए जीते थे,
किसी को कोई शिकायत न थी।
अपने लिए जीने का क्या सोचा,
सारा ज़माना दुश्मन हो गया ।

Show More
Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker