Home / सुविचार / झूठे इन्सान से प्रेम और सच्चे इन्सान से गेम
jhuthe insan se prem aur sachche insan se game

झूठे इन्सान से प्रेम और सच्चे इन्सान से गेम

हो सके तो ज़िंदगी में
दो काम कभी मत करना
झूठे इंसान से प्रेम
और सच्चे इंसान से गेम ।

विश्वास और प्रेम में
एक समानता है
दोनों में से कोई ज़बरदस्ती
पैदा नहीं किया जा सकता है ।



दुनिया की सबसे दुर्लभ जोड़ी होती है
खुशी और आँसू की
दोनों का एक साथ मिलना
मुश्किल है
लेकिन जब दोनों साथ होते हैं
तो वह पल सबसे खूबसूरत होता है ।

किसी के भी प्रति आपका
आश्वस्ति भरा व्यवहार “मैं हूँ न” वाला
आत्मीयता और फिक्र से भरे दो शब्द
एक हल्की सी मुस्कान
और थोडा सा स्नेह
बाँटते चलिये
जितना बाँट सकें
हमें कोई मूल्य खर्च नहीं करना
पर दूसरे के लिये अनमोल उपहार होगा ।

रिश्तों में समझदार बनो
वफा़दार बनो
असरदार बनो
पर यार
दुकानदार मत बनो ।

बहुत सौदे होते हैं संसार में
मगर
सुख बेचने वाले
और
दुख खरीदने वाले नहीं मिलते ।




शब्दों में चमत्कार भरा होता है ।
शब्द भावना को देह देता है और भावना शब्द के सहारे साकार बनती है ।
ये हमारे व्यक्तित्व और विचार दोनों बनाते हैं।
हमारे बाहर ही नहीं, हमारे भीतर भी शब्द गूंजते हैं ।

और देखिए –

प्रेम देना सबसे बड़ा उपहार है

प्रेम चाहिए तो समर्पण खर्च करना होगा

प्रेम सदा देता है और तकलीफ उठाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.