Home / सुविचार / चाणक्य नीति – प्रतिस्पर्धा में जीतना
Chanakya Neeti

चाणक्य नीति – प्रतिस्पर्धा में जीतना

Chanakya Neeti

जब तक तुम प्रतिस्पर्धा में
दौड़ने का साहस नहीं करोगे
प्रतिस्पर्धा में जीतना सदैव
असंभव बना रहेगा ।

Jab Tak Tum Daudne Ka Sahas Nahi Karoge
Pratispardha Mein Jeetna Sadaiv Asambhav Bana Rahega

  • डर को नजदीक न आने दो अगर यह नजदीक आ जाय तो इस पर हमला कर दो ।
  • जो तुम्हारी बात को सुनते हुए इधर-उधर देखे उस आदमी पर कभी भी विश्वास न करे ।
  • अगर कुबेर भी अपनी आय से ज्यादा खर्च करने लगे तो वह भी कंगाल हो जायेगा ।
  • कोई भी शिक्षक कभी साधारण नही होता प्रलय और निर्माण उसकी गोद मे पलते हैं ।
  • सतुंलित दिमाग जैसी कोई सादगी नही,संतोष जैसा कोई सुख नही,लोभ जैसी कोई बीमारी नही और दया जैसा कोई पुण्य नही है ।
  • दूसरों की गलतियों से सीखो अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने पर तुम्हारी आयु कम पड़ जायेगी ।
  • कोई भी व्यक्ति ऊँचे स्थान पर बैठकर ऊँचा नहीं हो जाता बल्कि हमेशा अपने गुणों से ऊँचा होता है ।
    भाग्य उनका साथ देता है जो कठिन परिस्थितयों का सामना करके भी अपने लक्ष्य के प्रति दृड़ रहते हैं ।