Home / सुविचार / मन के खिड़की दरवाजे रखिये खुले सदा
मन के - mano ya na mano

मन के खिड़की दरवाजे रखिये खुले सदा

मन के जिस दरवाजे से
शक अंदर आता है
प्यार और विश्वास
उसी दरवाजे से बाहर निकल जाते हैं।

मन के
जब तक मन
कैकई न हो
तब तक कोई मंथरा
कान नहीं भर सकती है।

maidan mein hara hua jeet sakta hai

मैदान में हारा हुआ
फिर से जीत सकता है,
परंतु मन से हारा हुआ
कभी जीत नहीं सकता।
आपका आत्मविश्वास ही आपकी सर्वश्रेष्ठ पूँजी है।

umar ko agar harana hai
उम्र को अगर हराना है तो
शौक जिन्दा रखिये,
घुटने चलें या न चलें
मन उड़ता परिंदा रखिये।

मन के - Man ke hare har hai
मन के हारे हार है,
मन के जीते जीत,
जो भी परिस्थितियाँ मिलें,
काँटे चुभें कलियाँ खिले,.
हारे नहीं इंसान,
है संदेश जीवन का यही

मन के - dhan se nahi man se dhanwan bane

धन से नही
मन से अमीर बने
क्योकि मंदिरों में स्वर्ण कलश भले लगे हो
लेकिन
नतमस्तक पत्थर की सीढ़ियों पर ही होना पड़ता है।



मानो या न मानो सुनने में क्या जाता है;
कई बार नेक मशविरा काम आ जाता है;
मन के खिड़की दरवाजे रखिये खुले सदा;
औरों का अनुभव भी बहुत कुछ सिखा जाता है।

मन के

शब्द कितने ही हों पास मगर
अर्थ किसी के मन को छू न सके तो सब व्यर्थ है।

मन के - Jiske man ka bhav
जिसके मन का भाव सच्चा होता है,
उसका हर काम अच्छा होता है।



विचारों का अनुलोम विलोम कीजिये।
बुरे विचार बाहर
भले विचार भीतर
मन को पद्मासन में बिठाइए
तन को वज्रासन में रखिये
दिमाग को सूर्यासन कराइये
होठो को मुस्कुरासन
जीवन एक योग है
गुणा भाग में न पड़िये
योग करिये निरोग रहिये।

मन के

आधी अधूरी बातें मन पर बोझ होती हैं,
किसी से कह दिया करें, किसी की सुन लिया करें ।




मन की शान्ति सबसे बड़ा धन है।

दुनिया में ऐसी कोई मुसीबत नहीं
जो आपके मन से ज्यादा शक्तिशाली हो

जब किसी में
गुण दिखाई दे तो
मन को कैमरा बना लीजिये और
जब किसी में अवगुण दिखाई दे तो
मन को आईना बना लीजिये।

मन के अनुकूल हो तो
हरि कृपा और
मन के विपरीत हो तो
हरि इच्छा
इस तथ्य को धारण कर लें तो
जीवन में आनंद ही आनंद है।

झाँक रहे हैं इधर उधर सब।
अपने अंदर झाँके कौन?
ढ़ूंढ़ रहे दुनिया में कमियाँ।
अपने मन में ताके कौन?
सबके भीतर दर्द छुपा है।
उसको अब ललकारे कौन?
दुनिया सुधरे सब चिल्लाते।
खुद को आज सुधारे कौन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.