{% if page.image.feature %} {% else %} {% endif %} कुछ हँस के बोल दिया करो, कुछ हँस के टाल दिया करो । suvichar.co.in
Home / सुविचार / कुछ हँस के बोल दिया करो
कुछ हँस के बोल दिया करो, कुछ हँस के टाल दिया करो ।

कुछ हँस के बोल दिया करो

कुछ हँस के बोल दिया करो,
कुछ हँस के टाल दिया करो ।
यूँ तो बहुत परेशानियाँ हैं तुमको भी मुझको भी,
मगर कुछ फैसले वक्त पे डाल दिया करो ।
न जाने कल कोई हँसाने वाला मिले न मिले,
इसलिये आज ही
हसरत निकाल लिया करो ।

हँसता हुआ चेहरा
आपकी शान बढ़ाता है.
मगर हँसकर किया हुआ कार्य
आपकी पहचान बढ़ाता है ।

मुस्कुराने के मकसद न ढूंढो,
वर्ना ज़िन्दगी यूँ ही गुज़र जाएगी.
कभी बेवजह भी मुस्कुरा के देखो,
तुम्हारे संग ज़िन्दगी भी मुस्कुराएगी । 

मुस्कुराना ही खुशी नही होती,
उमर बिताना ही ज़िंदगी नही होती,
खुद से भी ज़्यादा ख्याल रखना पड़ता है दोस्तों का.
क्योंकि दोस्त कहना ही दोस्ती नही होती ।

मुस्करा कर देखो तो
सारा जहां रंगीन है
वर्ना भीगी पलकों
से तो आईना भी
धुँधला नजर आता है।

प्रसन्नता
आपका अनमोल खजाना है
उसे छोटी-छोटी बातों पर
लुटने मत दीजिये ।

एक सच्ची मुस्कान से मुस्कान पाने वाला
मालामाल हो जाता है
परंतु मुस्कान देने वाला
दरिद्र नहीं होता है ।

सौ गुना बढ़ जाती है खूबसूरती,
महज़ मुस्कराने से,
फिर भी बाज नही आते लोग,
मुँह फुलाने से ।

ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है ,
जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये,
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये ।