सुविचार

‘आप’ और ‘तुम’ में फर्क

सच्चा साथी सुविचार शायरी इन हिंदी

‘आप’ और ‘तुम’ में फर्क होता है
आप के सामने दुःख बयाँ नहीं कर सकते हैं
पर
‘तुम’ के सामने दिल खोल सकते हैं।

जिस  दिन आपका सबसे करीबी साथी 
आप पर गुस्सा करना छोड़ दे
तब समझ लो कि
आप उसे खो चुके हैं ।

सच्चा साथ देने वालों की
बस एक ही निशानी है
कि वो जिक्र नहीं करते
हमेशा फ्रिक किया करते हैं ।

प्यार में लोग मजबूत इतने हो जाते हैं कि
दुनिया से लड़ जाते हैं, और
कमजोर इतने कि एक इंसान के बिना नहीं रह पाते हैं ।

कई बार हमारे साथ कुछ ऐसे हादसे हो जाते हैं
जिनके बारे में हम सोचते रहते हैं क़ि ये कब, कहाँ, कैसे और क्यों हुआ और
यकीन मानिये “प्यार” इनमे से सबसे खतरनाक है ।

किसी को ऐसे ही खुद से अलग मत करो,
बिछड़े हुए चंद सूखे पत्ते पूरा जंगल जला देते हैं।

लोगों को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि
आप खुश हो या नहीं
उन्हें तो फर्क बस इस बात से पडता है कि
आप उन्हें खुश रखते हो या नहीं ।

भगवान प्यार सबको देता है, 
दिल भी सबको देता है,  दिल में बसने वाला भी देता है, पर 
दिल को समझने वाला नसीब वालों को ही देता है।

सच्चा साथी सुविचार शायरी

आपकी ख़ुशियों में वो लोग शामिल होते हैं,
जिन्हें आप चाहते है, लेकिन आपके दुःख में
वो लोग शामिल होते हैं, जो आपको चाहते है ।

जिसके साथ आप खुलकर हंस सकते हैं 
उसके साथ आप पूरा दिन बिता सकते हैं 
लेकिन जिसके साथ आप खुलकर रो सकते हैं
उसके साथ आप अपनी पूरी जिंदगी बिता सकते हैं ।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button