सुविचार

कला को कोई चोरी नहीं कर सकता है

एक चिड़िया ने मधुमक्खी से पूछा –
तुम इतनी मेहनत से शहद तैयार करती हो,
और लोग चोरी करके ले जाते हैं,
तुम्हें बुरा नहीं लगता ।
मधुमक्खी ने कहा –
नहीं,
वो मेरी शहद बनाने की कला को
कभी चोरी नहीं कर सकते हैं ।

Ek Chidiya Ne Madhumakhi Se Poocha Ki,
Tum Itni Mehnat Se Shahad Taiyaar Karti Ho
Aur Log Chori Karke Le Jaate Hain,
Tumhe Bura Nahi Lagta.
Madhumakhi Ne Kaha,
Nahi,
Wo Meri Shahad Banane Ki Kala Ko
Kabhi Chori Nahi Kar Sakte.

ज़िन्दगी कठोर होगी तो
मुस्कुराने की वजह छीन सकती है
पर उस इंसान के
होंठों की हँसी नही छीन सकती
जिसे बेवजह भी हँसने की कला आती हो ।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker to visit the site.