thak kar na baith

थक कर न बैठ


दीपक तो अँधेरे में जला करते हैं
फूल तो काँटों में भी खिला करते हैं
थक कर न बैठ ये मंजिल के मुसाफिर
हीरे अक्सर कोयले में मिला करते हैं

Deepak To Andhere Mein Jala Karte Hain
Phool To Kanto Mein Bhi Khila Karte Hain
Thak Kar Na Baith Ye Manzil Ke Musafir
Heere Aksar Koyle Mein Mila Karte Hain