Home / प्रेरणादायक विचार / सोच को ले जाओ शिखर तक
soch ko apni le jao shikhar tak

सोच को ले जाओ शिखर तक


सोच को अपनी ले जाओ शिखर तक
कि उसके आगे सारे सितारे झुक जाएँ
न बनाओ अपने सफ़र को किसी कश्ती का मोहताज
चलो इस शान से कि तूफ़ान भी झुक जाये.

ये सोच है हम इन्सानों की,
कि एक अकेला क्या कर सकता है;
पर देख ज़रा उस सूरज को,
वो अकेला ही तो चमकता है ।

कोई नामुमकिन सी बात को; 
मुमकिन करके दिखा ।
खुद पहचान लेगा ज़माना; 
भीड़ में तू अलग चल कर दिखा ।

2 comments

  1. बहुत अच्छी पोस्ट है
    धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.