Home / प्रेरणादायक विचार / कल न हम होंगे न कोई गिला होगा
कल न हम होंगे न कोई गिला होगा

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा
जो लम्हे हैं चलो हँसकर बिता लें
जाने कल ज़िंदगी का क्या फैसला होगा ।
Kal Na Hum Honge Na Koi Gila Hoga
Sirf Simti Hui Yaadon Ka Silsila Hoga
Jo Lamhe Hai Chalo Haskar Bita Le
Jaane Kal Zindagi Ka Kya Faisla Hoga
आज ये पल है
कल बस यादें होंगी
जब ये पल ना होंगे
तब सिर्फ बातें होंगी ।
जब पलटोगे
जिंदगी के पन्नों को
तो कुछ पन्नों पर आँखें नम,
और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी । 
आहिस्ता से पढ़ना, एक वाक्य भी दिल में बैठ गया तो कविता सार्थक हो जायेगी….

🥀 मैं रूठा,
तुम भी रुठ गए,
फिर मनाएगा कौन? 🥀

🥀 आज दरार है,
कल खाई होगी,
फिर भरेगा कौन? 🥀

🥀 मैं चुप,
तुम भी चुप,
इस चुप्पी को फिर तोड़ेगा कौन? 🥀

🥀 छोटी बात को लगा लोगे दिल से,
तो रिश्ता फिर निभाएगा कौन? 🥀

🥀 दु:खी मैं भी और तुम भी बिछड़कर,
सोचो हाथ फिर बढ़ाएगा कौन? 🥀

🥀 न मैं राजी,
न तुम राजी,
फिर माफ करने का बड़प्पन
दिखाएगा कौन? 🥀

🥀 डूब जाएगा यादों में दिल कभी,
तो फिर धैर्य बंधाएगा कौन? 🥀

🥀 एक अहम् मेरे,
एक तेरे भीतर भी,
इस अहम् को फिर हराएगा कौन? 🥀

🥀 जिंदगी किसको मिली है सदा के लिए,
फिर इन लम्हों में अकेला
रह जाएगा कौन? 🥀

🥀 मूंद ली दोनों में से गर किसी दिन,
एक ने आँखे ….
तो कल इस बात पर फिर
पछतायेगा कौन? 🥀

Respect Each Other
* Ignore Mistakes *
* Avoid Ego *