प्रेरक प्रसंग

पुरुष से पिता तक का सफर

पत्नी जब स्वयं माँ बनने का समाचार सुनाये और वो खबर सुन,
आँखों से खुशी के आँसू टप-टप गिरने लगे
तब … आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

नर्स द्वारा कपडे में लिपटा कुछ पाउण्ड का दिया जीव,
जवाबदारी का प्रचण्ड बोझ का अहसास कराये
तब …..आदमी…..
“पुरुष से पिता बनता है”




रात-आधी रात, जागकर पत्नी के साथ, बेबी का डायपर बदलता है,
और बच्चे को कमर में उठा कर घूमता है,
उसे चुप कराता है, पत्नी को कहता है तू सो जा मैं इसे सुला दूँगा।
तब……….आदमी……
“पुरुष से, पिता बनता हैं”

मित्रों के साथ घूमना, पार्टी करना जब नीरस लगने लगे और
पैर घर की तरफ बरबस दौड़ लगाये
तब ……..आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

“हमने कभी लाईन में खड़ा होना नहीं सीखा ” कह,
ब्लैक में टिकट लेने वाला,
बच्चे के स्कूल में दाखिले का फॉर्म लेने हेतु पूरी ईमानदारी से सुबह 4 बजे से लाईन में खड़ा होने लगे
तब …..आदमी….
“पुरुष से पिता बनता है”

जिसे सुबह उठाते साक्षात कुम्भकरण की याद आती हो
और वो जब रात को बार बार उठ कर ये देखने लगे कि मेरा हाथ या पैर कहीं
बच्चे के ऊपर तो नहीं आ गया एवम् सोने में पूरी सावधानी रखने लगे
तब …..आदमी…
“पुरुष से पिता बनता है”

असलियत में एक ही थप्पड़ से सामने वाले को चारो खाने चित करने वाला,
जब बच्चे के साथ झूठ-मूठ की लड़ाई में बच्चे की नाजुक थप्पड़ से जमीन पर गिरने लगे
तब…… आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

खुद भले ही कम पढ़ा या अनपढ़ हो, काम से घर आकर बच्चों को
“पढ़ाई बराबर करना, होमवर्क पूरा किया या नहीं”
बड़ी ही गंभीरता से कहे
तब ….आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”



खुद ही की कल की मेहनत पर ऐश करने वाला,
अचानक बच्चों के आने वाले कल के लिए आज हालात से समझोता करने लगे
तब ….आदमी…..
“पुरुष से पिता बनता है”

ऑफिस का बॉस, कईयों को आदेश देने वाला,
स्कूल की पेरेंट्स मीटिंग में क्लास टीचर के सामने डरा सहमा सा,
कान में तेल डाला हो ऐसे उनके हर निर्देशों को ध्यान से सुनने लगे
तब ….आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

खुद की पदोन्नति से भी ज्यादा बच्चे की स्कूल की सादी यूनिट टेस्ट की ज्यादा चिंता करने लगे
तब ….आदमी…….
“पुरुष से पिता बनता है”

खुद के जन्मदिन का उत्साह से ज्यादा बच्चों के जन्मदिन की पार्टी की तैयारी में मग्न रहे
तब …. आदमी…….
“पुरुष से पिता बनता है”

हमेशा अच्छी अच्छी गाड़ियों में घुमाने वाला, जब बच्चे की सायकल की सीट पकड़ कर
उसके पीछे भागने में खुश होने लगे
तब ……आदमी….
“पुरुष से पिता बनता है”

खुद ने देखी दुनिया, और खुद ने की अगणित भूले,
पर बच्चे न करे, इसलिये उन्हें टोकने की शुरुआत करे
तब …..आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

बच्चों को कॉलेज में प्रवेश के लिए, किसी भी तरह पैसे ला कर
अथवा वर्चस्व वाले व्यक्ति के सामने दोनों हाथ जोड़े
तब …….आदमी…….
“पुरुष से पिता बनता है”

“आपका समय अलग था,
अब ज़माना बदल गया है,
आपको कुछ मालूम नहीं”
“This is Generation Gap”
ये शब्द खुद ने कभी बोला ये याद आये और मन ही मन बाबूजी को याद कर माफी माँगने लगे
तब ….आदमी……..
“पुरुष से पिता बनता है”



लड़का बाहर चला जाएगा, लड़की ससुराल, ये खबर होने के बावजूद,
उनके लिए सतत प्रयत्नशील रहे
तब …आदमी……
“पुरुष से पिता बनता है”

बच्चों को बड़ा करते करते कब बुढ़ापा आ गया, इस पर ध्यान ही नहीं जाता,
और जब ध्यान आता है तब उसका कोइ अर्थ नहीं रहता;
तब ……आदमी…….
“पुरुष से पिता बनता है” ।

पुरुष से पिता तक का सफर

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please turn off the Ad Blocker