प्रेरणादायक विचार

सफलता के मंत्र

सफलता का चिराग परिश्रम से जलता है ।

संघर्ष में आदमी अकेला होता है, सफलता में दुनिया उसके साथ होती है । जिस जिस पर ये जग हँसा है उसी उसी ने इतिहास रचा है ।

कामयाब लोग अपने फैसले से दुनिया बदल देते है और नाकामयाब लोग दुनिया के डर से अपने फैसले बदल लेते है ।

लगातार हो रही सफलताओं से निराश नहीं होना चाहिए क्योंकि कभी कभी गुच्छे की आखिरी चाबी भी ताला खोल देती है ।

सफल व्यक्ति लोगों को सफल होते देखना चाहते है, जबकि असफल व्यक्ति लोगों को असफल होते देखना चाहते है ।

कामयाब होने के लिए अकेले ही आगे बढ़ना पड़ता है, लोग तो पीछे तब आते है जब हम कामयाब होने लगते है ।

आप में शुरू करने की हिम्मत है तो, आप में सफल होने के लिए भी हिम्मत है ।

जीवन में वो ही व्यक्ति असफल होते है, जो सोचते है पर करते नहीं ।

सफलता का आधार है सकारात्मक सोच और निरंतर प्रयास ।

मेहनत इतनी खामोशी से करो कि सफलता शोर मचा दे ।

खुशी के लिए काम करोगे तो ख़ुशी नहीं मिलेगी, लेकिन खुश होकर काम करोगे तो ख़ुशी और सफलता दोनों ही मिलेगी ।

चाहे हजार बार नाकामयाबी हो, कड़ी मेहनत और सकारात्मक सोच के साथ लगे रहोगे तो अवश्य सफलता तुम्हारी है । सफलता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और इसे पाने के लिए ही हमारा जन्म हुआ है । सफलता तो आप द्वारा सोचे गए विचार का अंतिम परिणाम है । बार बार विफलता मिले तो निराश मत हो, महान वैज्ञानिक एडीसन सफल होने से पहले 10,000 बार विफल हुये थे । प्रत्येक विफलता में लाभों के बीज होते हैं ।

हमेशा लक्ष्य के साथ रहने वाले लोग सफल होते हैं, क्योंकि उन्हें पता होता है कि वे कहाँ जाना चाहते हैं ।

अगर आप असफल होंगे तो शायद आप निराश ही होगें लेकिन आप कोशिश ही नहीं करेंगे तो आप गुनहगार होंगे ।

असफलता केवल यह सिद्ध करती है कि सफलता का प्रयत्न पूरे मन से नहीं हुआ ।

पसीने की स्याही से जो लिखते है अपने इरादों को, उनके मुक़द्दर के पन्ने कभी कोरे नहीं हुआ करते ।

और पढ़ें –

सफलता पर महान लोगों के विचार
सफल जीवन के सूत्र
नजरिया बदलें जीवन बदलें

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button