प्रेरणादायक विचारसुविचार

मुश्किल इस दुनिया में कुछ भी नहीं

इरादा शायरी

मुश्किल इस दुनिया में कुछ भी नहीं;
फिर भी लोग अपने इरादे तोड़ देते हैं;
अगर सच्चे दिल से हो चाहत कुछ पाने की;
तो रास्ते के पत्थर भी अपनी जगह छोड़ देते हैं।

तुमको गिराने की लाख
साजिशें करे कोई
पर तुम संभल कर तो देखो
तुम्हारी रौशनी से होगा
रौशन जमाना
कभी चिरागों की तरह
जलकर तो देखो ।

आसमान को धरती पर उतारा जा सकता है
जब हौसला और इरादों का मिलाप होता है ।

जिसकी सोच में खुद्दारी की महक है,
जिसके इरादों में हौसले की मिठास है, और
जिसकी नियत में सच्चाई का स्वाद है,
उसकी पूरी जिन्दगी महकता हुआ गुलाब है।

बुझी शमा भी जल सकती है
तूफानों से कश्ती भी निकल सकती है
होके मायूस यूं ना अपने इरादे बदल
तेरी किस्मत कभी भी बदल सकती है ।

जिद है मेरी वही आशियाँ बसाने की
बारिश में इरादों से आग जलाने की
हर कोई सिकंदर नहीं होता
लोग करते है चर्चा उसके अफ़साने की ।

कोई वादा न कर कोई इरादा न कर
ख्वाईशों में खुद को आधा न कर
ये देगी उतना ही जितना लिख दिया खुदा ने,
इस तकदीर से उम्मीद ज़्यादा ना कर ।

अभी न पूछो हमसे मंजिल कहाँ है
अभी तो हमने चलने का इरादा किया है ।
न हारे हैं, न हारेंगे कभी
यह किसी और से नहीं खुद से वादा किया है ।

जीतूँगा मैं, यह खुद से वादा करो
जितना सोचते हो, कोशिश उससे ज़्यादा करो
तकदीर भी रूठे पर हिम्मत न टूटे
मजबूत इतना अपना इरादा करो ।

पर ही कतर सकता है, कोई किसी परिंदे के
इरादे भी कतर दे, इतनी धार कहाँ किसी में ।

इरादा शायरी और पढ़ें – मंजिल पर पहुँचना हो तो ..!

जिसे निभा न सकूँ, ऐसा वादा नहीं करता,
मैं बाते अपनी औकात से, ज़्यादा नहीं करता
भले ही तमन्ना रखता हूँ, आसमान छू लेने की
लेकिन औरों को गिराने का इरादा नहीं रखता ।

बुलंद हो हौसला तो मुट्ठी में हर मुकाम है,
मुश्किलें और मुसीबतें तो ज़िंदगी में आम हैं,
ज़िंदा हो तो ताकत रखो बाज़ुओं में लहरों के खिलाफ तैरने की,
क्योंकि लहरों के साथ बहना तो लाशों का काम है ।

पहले मैं होशियार था;
इसलिए दुनिया बदलने चला था !
आज मैं समझदार हूँ;
इसलिए खुद को बदल रहा हूँ…।

कठिनाईयाँ हज़ार हों पर
हौसला तेरा दमदार हो,
रास्ते की रुकावटों का तुम
मुँह तोड़ जवाब दो,
किस्मत से डरो नहीं
उसे रच के अपने नाम करो,
सपनों को उड़ान दो और
अपने लक्ष्य को प्राप्त करो ।

खूब हौसला बढ़ाया आँधियों ने धूल का;
मगर दो बूंद बारिश ने औकात बता दी ।

जज्बा है जूनून है हिम्मत है हौसला है,
अपने हर सवाल का तू खुद जबाब है,
फिर क्यूं डरता है मंजिल की तरफ बढ़ने से,
ये सिर्फ मंजिल नहीं,
तेरी जिन्दगी का आखिरी पड़ाव है।

इरादा शायरी और पढ़ें –

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button