{% if page.image.feature %} {% else %} {% endif %} Bhagavad Gita - भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में
Home / धर्म और संस्कृति / भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में
Bhagavad Gita

भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में

Bhagavad Gita – भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 1 : जीवन की सिर्फ एक समस्या – गलत सोच

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 2 : हमारी सभी समस्यायों का अंतिम समाधान – सही ज्ञान

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 3 : प्रगति और समृद्धि का एक ही रास्ता – निस्वार्थता

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 4 : प्रत्येक कार्य – प्रार्थना जैसा

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 5 : अहम् में नहीं अनंत के परमानन्द में डूबें 

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 6 : निरंतर उच्च चेतना से जुड़ें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 7 : जो सीखें, वही जियें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 8 : स्वयं से कभी हार मत मानो

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 9 : अपनी खूबियों का मान करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 10 : अपने आसपास दिव्यता को अनुभव करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 11 : सत्य को जानने का हर संभव प्रयास करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 12 : मन को श्रेष्ठता में तल्लीन करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 13 : माया से परे होकर दैवत्व से जुड़ें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 14 : जीवन शैली वही जियें – जो स्वयं के दृष्टिकोण से सही हो

bhagwad-geeta-chepter15

भगवद गीता अध्याय 15 : दिव्यता को सदैव प्राथमिकता दें

bhagwad-geeta-chepter16

भगवद गीता अध्याय 16 : अच्छा होना स्वयं एक पुरुस्कार है

bhagwad-geeta-chepter17

भगवद गीता अध्याय 17 : सुखद और सही का चयन ही आपकी शक्ति है

bhagwad-geeta-chepter18

भगवद गीता अध्याय 18 : चलो परमात्मा के सानिध्य में चलें