Home / धर्म और संस्कृति / भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में
Bhagavad Gita

भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में

Bhagavad Gita – भगवद गीता, प्रत्येक अध्याय एक वाक्य में

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 1 : जीवन की सिर्फ एक समस्या – गलत सोच

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 2 : हमारी सभी समस्यायों का अंतिम समाधान – सही ज्ञान

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 3 : प्रगति और समृद्धि का एक ही रास्ता – निस्वार्थता

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 4 : प्रत्येक कार्य – प्रार्थना जैसा

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 5 : अहम् में नहीं अनंत के परमानन्द में डूबें 

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 6 : निरंतर उच्च चेतना से जुड़ें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 7 : जो सीखें, वही जियें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 8 : स्वयं से कभी हार मत मानो

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 9 : अपनी खूबियों का मान करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 10 : अपने आसपास दिव्यता को अनुभव करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 11 : सत्य को जानने का हर संभव प्रयास करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 12 : मन को श्रेष्ठता में तल्लीन करें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 13 : माया से परे होकर दैवत्व से जुड़ें

bhagwad-geeta

भगवद गीता अध्याय 14 : जीवन शैली वही जियें – जो स्वयं के दृष्टिकोण से सही हो

bhagwad-geeta-chepter15

भगवद गीता अध्याय 15 : दिव्यता को सदैव प्राथमिकता दें

bhagwad-geeta-chepter16

भगवद गीता अध्याय 16 : अच्छा होना स्वयं एक पुरुस्कार है

bhagwad-geeta-chepter17

भगवद गीता अध्याय 17 : सुखद और सही का चयन ही आपकी शक्ति है

bhagwad-geeta-chepter18

भगवद गीता अध्याय 18 : चलो परमात्मा के सानिध्य में चलें

और पढ़ें : 

मैं हर बार आजमाता हूँ
प्रीत की डोरी टूटने न देना
इतनी कृपा बनाये रखना
राह दे कृष्ण
सब तुम्हारा है तुम सबके हो
उसका नाम दुनिया है
औकात से बढ़ कर
रब की मेहरबानी
प्रभु को मौन पाते हैं
पलकें झुकें और नमन हो जाये
तलाश न कर मुझे
अगला कदम पहचान सकूं
तू पुकारे और मैं सुन न पाऊँ
तू मिलता सिर्फ उन्ही को है
कोई कहे ये तेरा है 
कोई तो है जो फैसला करता है
प्रभु का दीदार – प्रार्थना