अध्यात्म

ईश्वर प्रेम पर शायरी

ईश्वर प्रेम पर शायरी,

तलाश न कर मुझे
जमीन ओ आसमान की गर्दिशों में
अगर मैं तेरे दिल में नहीं हूँ
तो कहीं पर भी नहीं हूँ।

ईश्वर प्रेम पर शायरी - Jo Kuch Bhi Maine Khoya

जो कुछ भी मैंने खोया
वो मेरी नादानी है
और जो कुछ भी मैंने पाया
वो रब की मेहरबानी है।

भगवान कहते हैं कि
हर बार सँभाल लूँगा
गिरो तुम चाहे जितनी बार
बस गुजारिश एक ही है
कभी मेरी नज़रों से न गिरना ।

कमाल का ताना दिया
आज मंदिर में भगवान ने,
मांगने ही आते हो
कभी मिलने भी आया करो। 

बस अपनी जरुरतों का भगवान तलाश लेता हूँ
गरीबी में भोले और रईशी में कान्हा को टटोल लेता हूँ ।

कुछ नेकियाँ ऐसी भी होनी चाहिए, 
जिनका प्रभु के सिवा कोई गवाह ना हो।

माता पिता से बढ़कर जग में मेरा कोई भगवान नहीं,
चुका पाऊँ जो उनका ऋण इतना मैं धनवान नहीं।

ईश्वर प्रेम पर शायरी - tujhe chahne ke tujhe pane ke

तुझे चाहने के तुझे पाने के
सबके अपने तरीके हैं
तू मिलता सिर्फ उन्हीं को है
जिसको तुझे पाने के तरीके हैं 

न माँग कुछ जमाने से, ये देकर फिर सुनाते हैं
किया एहसान जो एक बार, वो लाख बार जताते हैं
है जिनके पास कुछ दौलत, समझते हैं खुदा हैं हम
तू माँग अपने प्रभु से, जहाँ माँगने वो भी जाते हैं ।

ईश्वर प्रेम पर शायरी और पढ़ें –

ईश्वर से प्रार्थना हिंदी

भगवान पर सुविचार, स्टेटस, ईश्वर पर कविता

भक्ति स्टेटस हिंदी में

कृष्णा स्टेटस इन हिंदी

ईश्वर पर स्टेटस

भगवद गीता सार

ईश्वर की कृपा शायरी

Show More
Back to top button