Home / अनमोल वचन / इन्सान जब भी अलग सीखता है
insan jab bhi alag seekhta hai

इन्सान जब भी अलग सीखता है

Insan Jab Bhi Alag Seekhta Hai

Insan Na Kuch Hans Kar Seekhta Hai
Na Kuch Ro Kar Seekhta Hai
Jab Bhi Kabhi Alag Seekhta Hai To
Ya To Kisi Ka Hokar Seekhta Hai
Ya Kisi Ko Khokar Seekhta Hai.

इन्सान न कुछ हँसकर सीखता है,
न कुछ रोकर सीखता है,
जब भी कभी अलग सीखता है तो,
या तो किसी का होकर सीखता है,
या किसी को खोकर सीखता है ।